Yoast SEO Plugin All Signal Green Kaise Karen | On-Page SEO Technique

हर ब्लॉगर का मुख्य मुद्दा एसईओ ही होता है , यदि आपका ब्लॉग वर्डप्रेस पर है तो आप Yoast WordPress SEO Plugin के बारे में पता ही होगा और आप शायद उसका इस्तेमाल अपने ब्लॉग पोस्ट के seo को analyse करने के लिए जरुर करते होंगे .

लेकिन, क्या आप Yoast Seo Plugin का सही इस्तेमाल कर पाते हैं ? क्या आप yoast के मुताबिक 100 फीसदी अपने ब्लॉग पोस्ट का एसईओ करते हैं , यदि आप Yoast Seo Plugin के सभी सिग्नल को ग्रीन करना चाहते हैं तो , आज का यह लेख बिलकुल आपके लिए ही है .

आज के इस लेख में Yoast SEO के सभी सिग्नल को हरा करने का स्टेप बाय स्टेप तरीका बताया जा रहा है , ताकि आप अपने ब्लॉग पोस्ट को 100 फीसदी तक एसईओ ऑप्टिमाइज़ करके सर्च इंजन में रैंक करवा सकें .

Yoast SEO के सभी सिग्नल को Green करने के तरीके को जानने से पहले आपको यह जानना जरुरी है की एसईओ क्या है ? कीवर्ड क्या है और एसईओ कैसे किया जाता है , आप इन चीजों के बारे में निचे दिए लिंक पर क्लिक करके जान लें .

यदि आपने ऊपर बताये गए इन जरुरी चीजों के बारे में पूरी जानकारी ले ली है, तो अब आप बिलकुल तैयार हैं , तो आइये अब हम Yoast SEO को सही तरीके से इस्तेमाल करने का तरीका स्टेप बाय स्टेप समझते हैं .

Yoast WordPress SEO क्या है ?

Yoast WordPress SEO एक एसईओ प्लगइन है जिससे हम अपने ब्लॉग पर एसईओ की महतवपूर्ण सेटिंग्स करते है जैसे सर्च इंजन को यह बताना की हमारे साईट से क्या इंडेक्स करना है और क्या नहीं और इसके आलावा अपने ब्लॉग पोस्ट की एसईओ का एनालिसिस कर सकते हैं .

आसान शब्दों में कहे तो हम Yoast SEO के माध्यम से अपने ब्लॉग पोस्ट की एसईओ का विश्लेषण करके यह पता लगा सकते हैं की हमारे पोस्ट का On Page SEO का प्रतिशत क्या है , यानि हम कितनी फीसदी तक एसईओ कर चुके हैं .

यदि आपका ब्लॉग ब्लॉगर प्लेटफार्म पर मौजूद है तब भी आप यहाँ बताये ट्रिक्स का अनुशरण कर सकते हैं , भले ही आप Yoast प्लगइन का इस्तेमाल नहीं करते हैं , क्यूंकि किसी भी प्लेटफार्म पर एसईओ करने का तरीका लगभग एक समान है .

Yoast SEO Green Signal क्या है ? यह कैसा होता है

जिस ब्लॉग पर Yoast SEO का इस्तेमाल होता है उस ब्लॉग के पोस्ट एडिटर के ठीक निचे Yoast SEO प्लगइन का एक बॉक्स होता है जैसा की आप निचे के फोटो में देख रहे हैं, जहा पर हम फोकस कीवर्ड डालकर यह देखते हैं की हमारे लेख का एसईओ कहा तक हुवा है और अभी इसमें क्या कमी है .

yoast seo all signal green

वैसे तो लेख लिखते ही स्वतः Yoast SEO का कुछ Point ( Signal ) बहुत ही आसानी से Green हो जाते हैं, लेकिन कुछ ऐसे Point भी हैं जो आसानी से Green नहीं हो पाते हैं.

तो आइये अब हम उन बाकी सिग्नल को Green करने के तरीकों के बारे में जानते हैं, जिससे की आप आसानी से Yoast SEO के सभी सिग्नल Green सकेंगे .

How To Green All Yoast Plugin Signal

अब यहाँ पर आप Yoast SEO के सभी Signal Points के बारे में विस्तार से जानेंगे कि किस Point का क्या काम है , यानि क्या करने से कौन सा सिग्नल हरा होगा .

वैसे आपको एक बात और बता दूँ यदि इतना सब करने के बाद भी शायद कोई Point Green ना हो पाए तो , इसके लिए ज्यादा चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है . एक दो सिग्नल हरा ना होने पर भी आपका लेख रैंक हो जायेगा बशर्ते आपको इसकी पूरी जानकारी होना आवश्यक है .

1. Focus keyphrase ( Keyword ) को बाक्स में डालें

Focus Keyword सबसे मुख्य और अतिआवश्यक होता है, क्यूंकि फोकस कीवर्ड के आधार पर ही आप अपने ब्लॉग पोस्ट analyse कर सकते हैं .

Yoast SEO

फोकस कीवर्ड का विकल्प आपको सबसे पहले ही मिल जायेगा पोस्ट एडिटर के ठीक निचे यहाँ पर आपको वह कीवर्ड डालना है जिसको टारगेट करके आप लेख लिख रहे हैं .

2. Post Content पर ध्यान दें

ब्लॉग पोस्ट के लिए दूसरा सबसे जरुरी काम पोस्ट कंटेंट पर ध्यान देना होता है , पोस्ट कंटेंट के लिए भी कुछ जरुरी पॉइंट्स हैं जिन्हें आपका जानना बेहद जरुरी है .

  • लेख के पहले पैराग्राफ में ही फोकस कीवर्ड को लिखे इससे हमारे साईट रीडर्स को यह समझने में आसानी होती है की इस लेख में क्या है .
  • आपका लेख कम से कम 300 शब्दों में होना चाहिए, वैसे अगर आप जितना बड़ा लेख लिखेंगे उतना ही बेहतर होगा और सर्च रिजल्ट के पहले पेज में लेख आने की सम्भावना ज्यादा होगी .
  • लेख जितना ज्यादा हो सके उतना छोटे पैराग्राफ में लिखे लगभग 20 से 25 शब्द में इससे लेख को पढने और समझने में आसानी होती है .
  • लेख में हैडिंग और subheading का इस्तेमाल फोकस कीवर्ड के साथ करें, यानि फोकस कीवर्ड को हेडिंग में भी इस्तेमाल करें .

3. Post Title में फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल करें

ब्लॉग पोस्ट लिखते समय लेख के टाइटल में फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल करें यह काफी जरुरी होता है पोस्ट टाइटल की लम्बाई 30-70 अक्षरों के बिच में रखें क्युकी ज्यादा बड़ा टाइटल सर्च में दिखाई नहीं पड़ेगा .

4. Post URL ( Permalink ) में फोकस कीवर्ड को सम्लित करें

पोस्ट के यूआरएल ( पर्मालिंक ) को सेट करते समय उसमे भी फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल करें और यूआरएल को जितना हो सके उतना छोटा ही रखें 4-5 शब्दों तक .

5. Meta Description में टार्गेटेड ( फोकस कीवर्ड ) का उपयोग करें

पोस्ट टाइटल के निचे 2 लाइन का लिखा हुवा कुछ शब्द मेटा डिस्क्रिप्शन होता है जैसा की आप निचे फोटो में देख सकते हैं .

meta description

मेटा डिस्क्रिप्शन काफी महत्वपूर्ण होता है , मेटा विवरण लिखने का अर्थ यह है की इससे सर्च इंजन और विजिटर दोनों समझ सके की इस लेख में क्या है .

ब्लॉग पोस्ट के मेटा विवरण में भी फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल महत्वपूर्ण होता है , लेकिन एक चीज का ध्यान रखे मेटा विवरण ज्यादा लम्बा नहीं होना चाहिए ज्यादा से ज्यादा 155 अक्षरों के भीतर ही होना चाहिए

6. Blog Post में Images का इस्तेमाल करें फोकस कीवर्ड के साथ

  • लेख में कम से कम 1 या 2 इमेजेज का इस्तेमाल जरुर करें
  • Image upload करने से पहले उसे rename कर लें यानि फोटो किस चीज के बारे में है
  • image का ALT भी लिखे फोकस कीवर्ड के साथ ताकि फोटो एसईओ के अनुकूल हो सके .

वैसे मैंने SEO Friendly Image Kaise Banaye इसके बारे में भी एक स्टेप बाय स्टेप लेख लिखा आप उसे पढ़कर ब्लॉग पोस्ट image को SEO Friendly बना सकते हैं ताकि image भी सर्च रिजल्ट में आ सके .

7. External और Internal Linking का इस्तेमाल करें

ब्लॉग पोस्ट में दुसरे पोस्ट का लिंक देना भी आवश्यक होता है , ऐसे में लिंकिंग दो प्रकार के होते हैं जो निचे निम्न हैं .

Internal Link : आप जो लेख लिख रहे हैं उससे सम्बंधित आपके ही ब्लॉग का दुसरे लेख का लिंक ऐड करें .

External Link : लेख से संबधित किसी अन्य साईट के किसी पोस्ट का लिंक भी जरुर दें इससे आपके रीडर को ज्यादा मदद मिलता है .

नोट : ब्लॉग पोस्ट लिखते समय Internal Link और External Link ऐड करना On Page SEO का ही एक हिस्सा है , इससे आपके साईट पर इन्टरनेट यूजर ज्यादा समय बिताते हैं और साथ ही आपके साईट की Domain Authority और Page Authority में भी बढ़ोतरी होता है .

8. Keyword Density का ध्यान रखें

आप सोच रहे होंगे की Keyword density क्या चीज है , तो आइये इसपर भी एक नजर डालते हैं, Keyword density का तात्पर्य यह है की आपने कितने शब्दों के लेख में फोकस कीवर्ड कितनी बार इस्तेमाल किया है .

Keyword density का इस्तेमाल ब्लॉग पोस्ट में ज्यादा नहीं होना चाहिए, मतलब फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल अत्यधिक नहीं करना चाहिए, यदि आप लिमिट से ज्यादा फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल करते हैं, तब वह Keyword Stuffing कहलायेगा .

Keyword density पोस्ट में 2.5 से 3 प्रतिशत ही रखना है, यानि प्रति 100 शब्दों के लेख में 2-3 बार फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल होना चाहिए .

9. Keyphrase length का ध्यान रखे

Keyphrase length का भी सही तरीके से इस्तेमाल करना बेहद जरुरी है, Keyphrase length यानि Focus keyphrase जिसके बारे में मैंने सबसे ऊपर ही बताया हैं, इसे ज्यादा से ज्यादा 4 शब्दों में ही रखना है .

10 . Keyphrase का इस्तेमाल पोस्ट Slug में करें

फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल पोस्ट के Slug यानि पोस्ट के यूआरएल ( जिसके बारे में मैंने ऊपर भी बताया है) में भी करना बहुत जरुरी है और जितना छोटा हो सके उतना छोटा ही Slug को रखें .

यहाँ मैंने आपको 10 पॉइंट के बारे में समझाया है, यदि आप ऊपर बताये गए सभी पॉइंट्स को सही तरीके से करते हैं तो आपका On Page SEO पूरा हो जायेगा और सभी सिग्नल Green हो जायेगा .

इसके अलाव Yoast WordPress SEO का एक और चेक बॉक्स है जिसे Readability कहा जाता है इसमें भी 4-5 पॉइंट्स होते हैं, हालाँकि Readability Analyse English Content के लिए किया जाता है , यदि आपका ब्लॉग digitalbane कर तरह हिन्दी में हैं तो आप इसे skip कर दें .

निष्कर्ष

यदि आप यहाँ तक पहुच गए हैं तो उम्मीद है की आपने पूरा लेख पढ़ लिया है और यहाँ बताये गए तमाम चीजों को बारीकियों से समझ लिया है .

कोई भी लेख बहुत ही बारीकियों से लिखना चाहिए, आप जितना बढ़िया गुणवता वाले लेख लिखेंगे अआप्को उतने ही ज्यादा विजिटर मिलेंगे और आपके लेख को रैंक होने में भी कोई दिक्कत नहीं आएगी .

नोट : एक बात का ध्यान रखें सारे सिग्नल को ग्रीन करने के लिए पोस्ट की क्वालिटी ख़राब नहीं करना है .

यदि आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें और अगर आपके मन में कोई शंका हो या कोई सवाल हो तो आप हमसे कमेंट बाक्स में बेझिझक पूछ सकते हैं .

KAMODH SINGH

मैं डिजिटल बने ब्लॉग का संस्थापक और पेशेवर ब्लॉगर हूँ। इस साईट पर मैं नियमित रूप से कुछ नया उपयोगी और मददगार जानकारी शेयर करता हूं।

Leave a Reply